याद है मुझको


छत पे सितारों की आराईश, याद है मुझको,
सूखे फर्श पे, यादों की बारिश, याद है मुझको|

हातों पे बिखरी लकीरों का सबब मुझको नहीं,
मुक्कदर की वो हसीन साज़िश, याद है मुझको|

दीवारों पे लटके ख्वाबों पे गर्द है लेकिन,
दिल की हर ख्वाइश, याद है मुझको|

यूँ तो ज़ीस्त से कोई मरासिम नहीं ‘वीर’,
आपकी आखरी गुजारिश, याद है मुझको|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: