उम्र


किस खता की सजा है ये उम्र,
शायद हर वजह की वजह है ये उम्र|

एहद ऐ वफा सभी ज़ाया नहीं,
यु हीं इंतज़ार को कहते नहीं उम्र|

आपके ग़मों का एहसास है हमें,
यु हीं महकदे में गुजारी नहीं है उम्र|

कभी तो बंदे रूह से पुकारा होता,
नाहक ही सजदों में गुजारी है ये उम्र|

ज़रा आहिस्ता निकाले दीवाने का जनाज़ा,
ज़िन्दगी देके पायी है ये उम्र|

वीर,
समझो इन्हें इनायतें ज़िन्दगी,
गिले शिकवों ने सजाई है ये उम्र|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: