एक मर्ज़


मेरे वजूद से जुदा एक क़र्ज़,
ला-इलाज ला-इलाज, एक मर्ज़|

कोई कहता इसे बंदगी, कोई कहता इसे फ़र्ज़,
लाइलाज लाइलाज, एक मर्ज़|

कहा ना जो कभी लबों ने,
आज निगहों ने किया है अर्ज़|
लाइलाज लाइलाज, एक मर्ज़|

बदले उसने रिश्ते मौसम की तरह,
बदली हमने तस्वीर ऐ खुदा, क्या हर्ज़|
लाइलाज लाइलाज, एक मर्ज़|

मिला चैन जिस रिश्ते में,
उसने किया खोकला तुझे|
कहते हैं वफाओं का यही है तर्ज़|
लाइलाज लाइलाज, एक मर्ज़|

उसे दोस्त कहूं या खुदा ‘वीर’,
छुपके जिसने किये हर गुनाह दर्ज|
लाइलाज लाइलाज, एक मर्ज़|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: