बंद दरवाज़े


रस्मों की दीवारों पे जड़े बंद दरवाज़े,
खयालों की भीड़ में, खड़े बंद दरवाज़े|

ये जहाँ तुम्हारा, ये ईमान तुम्हारा,
मेरे अरमानो को क्या क़ैद कर सकेंगे,
तुम्हारी सोच के ये बंद दरवाज़े|

‘वीर’, एक दिन तेरी कहानी के गवाह बनेंगे,
खयालों की भीड़ में खड़े ये बंद दरवाज़े|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: