बीते बरस


बीते बरस को याद करें,
तरसे कितना उसके लिए, याद करें|

उम्र और चली एक कदम,
वही ख्वाब रहा हमारा हरदम|
कैसे बदले वक़्त और हालात, बात करें|
बीते बरस को याद करें …

अबके साल इन्हें फिर संजोना होगा,
भूले, टूटे, बिछड़े ख्वाब याद करें|
बीते बरस को याद करें ….

हाकिम बने खुद अपने गुनाहों के,
फैसला क़यामत से पहले आम करें|
बीते बरस को याद करें …

जो पाया उसका एहसास है,
खुद को कितना खोकर ये सवाल करें|
बीते बरस को याद करें …

आने वाला साल भी, बीते साल सा होगा|
आज इसका इकरार करें|
बीते बरस को याद करें …

ज़माने से लड़कर जीना सीख लिया,
खुद से डरने का हौसला करें|
बीते बरस को याद करें …

मुबारक हो आज का दिन हमें,
तारिख पर दोस्तों को क्या शर्मिंदा करें|
बीते बरस को याद करें|

वो तो आज भी निगाहों में है,
छूटे जो साथ नींद में, याद करें|
बीते बरस को याद करें|

जीस्त का मौसम फिर रहे न रहे ‘वीर’,
उससे आज बेवजह गले मिलें|
बीते बरस को याद करें|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: