भूल


केहना है एक राज़ उस हमनशीं से,
भूल हो गयी थी शायद कोई हमीं से|

गुजर गया दौर-ऐ-परेशानी सनम,
जाती क्यों नहीं शिकन तेरे ज़बीं से|
भूल हो गई थी शायद कोई हमीं से|

उड़ता था ख्वाइशों के पर लिए,
उठता नहीं अब पांव ज़मीन से|
भूल हो गयी थी शायद कोई हमीं से|

चल संभलकर राह-ऐ-जवानी रकीब,
इश्क न हो जाए किसी शोख महजबीं से|

कहता था हाल-ऐ-दिल सभी से दीवाना,
कहता कुछ नहीं अब किसी से|
भूल हो गयी थी शायद कोई हमीं से|

‘वीर’ तेरी बेरुखी अब फुघान हो चली,
उनको लगते हैं मिजाज़ तेरे, कुछ रंगीन से|

Advertisements

2 Responses

  1. क्या बात है……….. बहुत सुन्दर रचना

  2. KYA KAHE O VIR TERE BARE ME
    LIKH TEHO AESA KI SOCH ME
    PADH JAYE DIMAG AADHA

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: