बेरुखी


धोखा है, इश्क है, दिल्लगी है,
कितनी हसीं उसकी बेरुखी है|

बहलाने वाले खो गए हैं कहाँ,
मुस्कुराहट उन्हें ढूंढती है|
कितनी हसीं उसकी बेरुखी है|

जान पहचान से होगा क्या,
सारी दुनिया लकीरों में सिमटी है|
कितनी हसीं उसकी बेरुखी है|

याद कर लेंगे फिर उसे ‘वीर’,
तन्हाई जिसे भूलती है|
कितनी हसीं उसकी बेरुखी है|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: