जब कभी बैठा मैं


उसके ख्यालों ने दस्तक दी,
जब कभी बैठा मैं|
अरमानो ने हसरत की,
जब कभी बैठा मैं|

बहलता नहीं दिल खिलोनों से,
फिर भी एक कोशिश की,
जब कभी बैठा मैं|

वजूद का सबब समझा नहीं ‘वीर’,
उस कातिल की तलाश की,
जब कभी बैठा मैं|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: