कभी तुम तो कभी हम


सिलसिले ये किस बात के,
के खत्म नहीं होते|

ये कैसी कहानी है हमारी,
कभी तुम तो कभी हम नहीं होते|

याद आती तो है मगर कभी कभी,
कभी तुम तो कभी हम नहीं सोते|

दोनों दाना हैं इस बेहोशी में,
कभी तुम तो कभी हम नहीं रोते|

एक ऐसे लम्हे की तलाश है ‘वीर’,
जिसमें तू ना होता, जिसमें वो ना होते|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: