आज कल


ख़ामोशी है हमराह आज कल,
आवारगी है गुमराह आज कल|

फिर आया गिले हज़ार लेके,
वक्त की यही है चाल आज कल|

और कौन सा रंग है अनदेखा,
बस यही है सवाल आज कल|

एक नया सितारा है आसमां में,
उसी का है बवाल आज कल|

बेठे रहें तुझे आँखों में सजाये,
हसीं है फ़िराक आज कल|

दिन सा ढल गया क्यों तू ‘वीर’,
बस यही है मलाल आज कल|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: