किताब बना लूँ


कुछ बिखरे तन्हा ख्याल उठा लूँ,
पन्ना पन्ना जोड़ कर किताब बना लूँ|

रख लूँ बूंद बूंद अश्क संभाल कर,
कभी इनसे सुलगते सवाल बुझा लूँ|
पन्ना पन्ना जोड़ कर किताब बना लूँ …

नहीं मौत मेरे कब्ज़े में तो क्या,
आ तुझे मैं अपनी साँस बना लूँ|
पन्ना पन्ना जोड़ कर किताब बना लूँ …

तू रख मेरी वफ़ा का भरम,
जिंदिगी को मैं इंतज़ार बना लूँ|
पन्ना पन्ना जोड़ कर किताब बना लूँ …

Advertisements

3 Responses

  1. बहुत खूब!!

    पन्ना पन्ना जोड़ कर किताब बना लूँ …

    वाह!

    • शुक्रिया..

  2. Wonderful.Especially Nahi Maut mere kabze me to kya,aa Tujhe meri saas bana loon…..Awesome.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: