आवारगी हमें कहाँ ले आई


ढूँढ रहे थे हम किसे वीरानो में,
आवारगी हमें कहाँ ले आई|

है कोई वाकया इन सिलसिलों में,
फितरतें हमें कहाँ ले आई|

तपता सूरज आंख में चुभता रहा,
रात के सन्नाटों ने ख़ामोशी चुराई|

झुझते रहे हम करवटों से रात भर,
हर सिलवट ने आवाज़ हमें लगाई|

मत पूछ के कैसे लिखता है ‘वीर’,
पूछ उसे दुनिया क्यों रास ना आई|

Advertisements

3 Responses

  1. भाव अच्छे लगे.

    • आपके नज़र – http://wp.me/pJPFZ-6k

  2. nice poem. I have just started a site on wordpress form poems of kavi ghotoo

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: