तिनका तिनका


तिनका तिनका समेट रहा हूँ,
मैं खुद को ढूँढ रहा हूँ|

क्या छुपा है ज़ेहन में,
मैं खुद से पूछ रहा हूँ|

क्या मरासिम है जिंदिगी से,
मैं मायने ढूँढ रहा हूँ|

खोखली लगती है सारी दुनिया,
मैं क्या ढूँढ रहा हूँ|

इतने साये हैं मुझसे लिपटे,
अपना साया ढूँढ रहा हूँ|

खामोश अंधेरा तन्हा सवेरा,
हर रोज मैं क्यों उठ रहा हूँ|

कोई देदे एक ख्वाब अधूरा सा,
मैं नया जाल बुन रहा हूँ|

ज़ाया ना कर अपनी आवाज़ मेरे दर पे,
मैं तुझे बस सुन रहा हूँ|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: