काफिर की दुआ


किसी काफिर की दुआ हूँ मैं,
धुएं सा भुझ चला हूँ मैं|

मेरा नाम पुकारता नहीं कोई,
ख़ामोशी की सदा हूँ मैं|
धुएं सा भुझ चला हूँ मैं…

रख मुझसे दूरी ही तू,
बेखुदी की बला हूँ मैं|
धुएं सा भुझ चला हूँ मैं…

दिन में पिघलता आसमान,
हर शाम तुझ में ढला हूँ मैं|
धुएं सा भुझ चला हूँ मैं…

पी जाऊँ ना कहीं तुझे शराब सा,
मर मर के जीने की अदा हूँ मैं|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: