डर मत वीर


डर मत वीर तू इससे भी उभर जाएगा|
तेरे ज़हर को पीके ये लम्हा भी मर जाएगा|

रात रोते रोते तू बह गया अगर,
सारा जहान तेरे अश्कों से भर जाएगा|

काजल से काली सोच है तेरी वीर,
शैतान भी तुझसे डर जाएगा|

कोई है क्या वहाँ रास्ता देखता,
उठ के भला तू क्या घर जाएगा|

ऐसे रखा है ख्यालों को ओढ़ कर,
किसी रोज तेरा ज़हन इनसे सड़ जाएगा|

खड़ा रहूँगा अपनी तन्हा मंजिल पे मैं,
ज़माना कौसो दूर निकल जाएगा|

कतरा कतरा अपनी ज़मीन खोदता है ‘वीर’,
एक दिन बेखुदी में इसमें गड जाएगा|

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: