चल यूँ कर लें


दिखाई दे हर शय में तुझे,
उसे ऐसे आँखों में भर लें|

महकता रहे ज़हन हमेशा,
उसे ऐसे सांसों में भर लें|

कुछ ना रहे माज़ी का बाकी,
उसे ऐसे यादों में भर लें|

सिर्फ एक लकीर हो किस्मत की,
उसे ऐसे हाथों में भर लें|

हर लफ्ज़ में घुल जाए ज़िक्र,
उसे ऐसे बातों में भर लें|

काली गुमसुम तन्हा ना बीते,
उसे ऐसे रातों में भर लें|

Advertisements

3 Responses

  1. बहुत सुंदर रचना

    • “सिर्फ एक लकीर हो किस्मत की,
      उसे ऐसे हाथों में भर लें|

      हर लफ्ज़ में घुल जाए ज़िक्र
      उसे ऐसे बातों में भर लें”

      bahut hi sundar…..
      shubhkaamnaaye swikaar kare..

  2. finally got here! But this reads like the inbox of my cell!!!
    Im amazed at the alacrity with which you spin words together like a wordsmith maybe…

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: