नाराज़ तुमसे


कह दूं ये राज़ तुमसे,
के मैं हूँ नाराज़ तुमसे|

झूमते हो मेरे लफ़्ज़ों पर,
छीन लूं ये साज़ तुमसे|
के मैं हूँ नाराज़ तुमसे…

ये कुर्बत है और फासला भी,
जोड़ते हैं मुझे अलफ़ाज़ तुमसे|
के मैं हूँ नाराज़ तुमसे…

बेखुदी में फ़ना होगा ‘वीर’,
अंजाम की होगी आगाज़ तुमसे|
के मैं हूँ नाराज़ तुमसे…

Advertisements

One Response

  1. sundar abhivayakti

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: