रोने दो मुझे


अपने दामन में खोने दो मुझे,
आज लिपट कर रोने दो मुझे|

बड़ी मुद्दत से पथराई हैं आंखें,
आज देर तलक सोने दो मुझे|
आज लिपट कर रोने दो मुझे…

भागते भागते बिछड़ा खुदसे,
फिर मुझसा होने दो मुझे|
आज लिपट कर रोने दो मुझे…

दिल अपनों के दागों से भरा है,
हर दाग दिल का धोने दो मुझे|
आज लिपट कर रोने दो मुझे…

अब मौत को भी रुसवा करूँ,
सबसे बेखबर सोने दो मुझे|
आज लिपट कर रोने दो मुझे…

खुद की हस्ती का गुलाम है ‘वीर’,
अपनी ज़ुल्फ़ में खोने दो मुझे|
आज लिपट कर रोने दो मुझे…

Advertisements

3 Responses

  1. wow !!!!!!!!!

    खुद की हस्ती का गुलाम है ‘वीर’,
    अपनी ज़ुल्फ़ में खोने दो मुझे|
    आज लिपट कर रोने दो मुझे…
    bahut khub

    shkhar kumawat

  2. wow !!!!!!!!!

    bahut khub

    shkhar kumawat

  3. अब मौत को भी रुसवा करूँ,
    सबसे बेखबर सोने दो मुझे|
    आज लिपट कर रोने दो मुझे…
    waah sirji bahut achche…

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: