मुन्तज़िर नाउम्मीद


मुन्तज़िर नाउम्मीद से हो गए थे हम,
मौत के कितने करीब हो गए थे हम|

खैर सांसे रहते आप लोट तो आये,
अकेले कितने अजीब हो गए थे हम|
मौत के कितने करीब हो गए थे हम…

उसका ज़िक्र बातों में ढूँढते रहे ‘वीर’,
नदीम अपने रकीब के हो गए थे हम|
मौत के कितने करीब हो गए थे हम…

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: