कहने दो ना जिंदिगी


वहमों में रहने दो ना जिंदिगी,
कहने को कहने दो ना जिंदिगी|

ग़मों का दरिया या गिलों की बारिश,
हमें हर हाल में बहने दो ना जिंदिगी|
कहने को कहने दो ना जिंदिगी…

सब दिखता है मेरे अलावा मुझको,
मुझे कुछ नए आईने दो ना जिंदिगी|
कहने को कहने दो ना जिंदिगी…

Advertisements

One Response

  1. सुन्दर!!

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: