जिस्म से रूह तक


जिस्म से रूह तक सब लडखडाता है,
जंग खाया कोई रिश्ता टूटता जाता है|

फिर संग लिए अपने कांधों पर,
कोई दीवाना घर नया बनाता है|
जंग खाया कोई रिश्ता टूटता जाता है…

अपने अश्कों की कद्र उसे कब थी,
उसकी राहों में फूल बिछाता है|
जंग खाया कोई रिश्ता टूटता जाता है…

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: