कौन है वो

सजा ले मेरे नुस्क अपने दामन में,
मिटा दे मेरी आवारगी को,
कौन है वो…

लम्हा लम्हा जो बिछड़ा मुझसे,
छीन ले जो उसे वक्त से,
कौन है वो…

‘वीर’,
इस शोर में सुन ना पाऊँगा उसे,
फिर भी आवाज़ दे जो,
कौन है वो…

%d bloggers like this: