खोया मौसम

खुद से जब मैं सच्चा था,
दुनिया की नज़र में बच्चा था|

हासिल नहीं था बहोत ज़िन्दगी से,
थोडा बहुत था, अच्छा था|
खुद से जब मैं सच्चा था|

गम सजाना बचपन से अदा थी,
अक्लमंदों की समझ में, कच्चा था|
खुद से जब मैं सच्चा था|

हौसले बुलंद हुआ करते थे,
इरादों का पक्का था|
खुद से जब में सच्चा था|

मासूमियत थी चेहरे पर,
दिल मैं दर्द सबका था|
खुद से जब मैं सच्चा था|

संभलकर रखी थी दौलत मुट्ठी में,
किसी का दिया जो वो सिक्का था|
खुद से जब मैं सच्चा था|

धुप खुशगवार हुआ करती थी,
आँचल मैं उसने साए को जकड़ा था|
खुद से जब मैं सच्चा था|

तुम आओ जो कभी तो दिल में बस जाना,
दिल का कोना तुम्हारे लिए रखा था|
खुद से जब में सच्चा था|

%d bloggers like this: